face
घर \ حلقات تليفزيونية \ ब्रह्माण्ड मानव बुध्दिमत्ता, सम्मान और लक्ष्य का प्रजापति है। \ उनके पास औरत का स्थानV

उनके पास औरत का स्थानV

" भारत के प्राचीन धर्में में (यह था) कष्ट, मृत्यु, नर्क, विष, साँप, और आग औरत से भले हैं, औरत को जीवित रहने का अधिकार उसके मालिक और सरदार पतिदेव के जीवन तक ही है। जब वह अपने पतिदेव का शरीर (मृत्योपरान्त) जलते देखे तो अपने-आप को उस आग में डाल दें। वरना सदा उस पर फटकार होती है। "

वेबसैट लिंक

फोरम लिंक