face
   

सभ्यता का मार्ग

सभ्यता का मार्ग

सभ्यता का मार्ग

संस्कृति और सभ्यता के बीच फरक

www.aroadtohappiness.com

हारबर्ड जॉर्ज विल्स

ब्रिटीष लेखक
उच्च प्राणाली
निशचित रूप से इस्लाम ने साम्राज्य संभाला है, क्यों कि वह सामाजिक और राजनीतिक ऐसा उच्च प्रणाली है जिस्को संसार प्रस्तुत करसका है। इस्लाम फ़ैल चुका है क्यों कि वह हर ओर राजनीती की समझ न रखने वाले लोग देखता था । जिनका धन लुट लिया जाता था, उनके साथ अन्याय किया जाता था, डराया जाता था, ज्ञान से दूर रखा जाता था, और उनके जीवन में कोई अयोजन नही था। इसी प्रकार से इस्लाम ने ऐसी स्वार्थी सरकारें देखा, जिस में सरकार और जनता के बीच कोई संबंध ही नही था। परन्तु इस्लाम नया और पवित्र राजनीतिक विचार रखने वाला धर्म था, जो उस काल में भी संसार के भीतर वास्तविक गती-विधी की विशेषता रहा। इस्लाम किसी भी प्रणाली से मानव को अधिक सर्वश्रेष्ट प्रणाली उपलब्ध करता है। रोमन साम्राज्य में कम्यूनिज़म की ग़ुलामी पर आधारित प्रणाली, पश्चिम में चरित्र, सभ्यता और सामाजिक परंपरा पूर्ण रूप से विघटित हो चुकी थी, और इस्लाम के आने से पहले समाप्त हो चुकी थी ।

कोई भी समूह या गिरोह, विकसित हो या अवतनि हो, स्वयं के लिए एक संस्कृति रखता है, जिससे वह संबंधित रहता है, और इस संस्कृति, द्वारा मनुष्य के भीतर विशिष्ट चरित्र पैदा होता है। संस्कृति जीव की एक विधि है। जीवन और संसार कि एक स्थिति है। सामाजिक और चारित्रिक प्रणाली है, जो जीवन के अभिव्यक्तियों और हर कड़ी पर प्रभावित होता है। गतिविधियों में प्रकट होता है। समाज को अपनी एक पहचान देता है। और संस्कृती कि एकता को सुरक्षित रखता है। जहाँ तक सभ्यता कि बात है, तो यह समूह के सांस्कृतिक स्थिर का जायद गुण है। जो विकास, मात्रात्मक और गुणात्मक श्रेष्ठता और सांसारिक आविष्कार का कारण होता है। इतिहास में प्रभाव का एक उल्लेखनीय स्तर (डिग्री) होता है। संसार कि घटनाएँ और उसके निर्देशन में प्रभावित है। यह प्रभाव स्थान और समय के अनुसार कभी-कभी विस्तृत गठन का कारण होते है। इसी तरह हर सभ्यता, प्रकृति, समाज, राजनैतिक, धर्म, संस्कार, ज्ञान और चरित्र के बीच अनोखा गठन होता है। इन सब कारणों को हम एक ही स्थान में सीमित पाते हैं। और वह स्थान किसी भी समूह कि विशेषताओं के साथ उसकी सभ्यता है।

इस्लामी सभ्यता की ओर से मानव को मिलने वाला सम्मान

निश्चय इस्लाम पहले इमान लानेवाले गिरोह के व्यक्तित्व को उनके असहिष्णुता और मंदता से उच्च नैतिकता और अच्छे नियमों से बदल दिया। जो बहुत ही कम वर्षों में विकास और सभ्यता में जान डाल दी। इन कम वर्षों में उन्होंने दुनिया में विजय प्राप्त कर ली। उस समय के बहुत से गिरोह ने इस सभ्यता को स्वीकार किया। क्योंकि मुहम्मद द्वारा शुभ सूचना दिये हुए धर्म में सरलता, न्याय, भाई चारगी समानता थी। इस्लामी सभ्यता उस समय प्रवेश हुई, जबकि लोग ज़ुल्म और बंदगी पर आधारित पुरानी विधि से निराश हो गये, वे ऐसी नयी विधि की इच्छा करने लगे, जिसमें वे स्वयं के लिए सम्मान और मानवता पाते हैं। जबकि पहले वे अत्याचार और कठोर राजाओं के अन्याय से पीडित थे। इस्लाम ने उन्हें सुवर्ण अवकाश प्रधान किया। इसलिए कि इस्लाम ने उनकी बहुत सी स्थितियों को सुधारा। वे इस्लाम में वही सम्मान जनित जीवन देखते थे जिसकी वे इच्छा किया करते थे। साथ-साथ उनसे अन्याय, अज्ञान और मंदता को दूर किया।

www.aroadtohappiness.com

मुंटोबु मेरी वॉट

ब्रिटीष प्राचयं विद्या विशारद
घमण्ड़ के संकेत
वर्तमान काल में जब कि अरब के मुस्लिम्स और क्रिस्टियन्स का पश्चीमी वासियों के साथ गहरा संबंध होता जा रहा है, इस जैसे समय में इस बात कि आवश्यकता है कि पश्चिम पर इस्लामिक प्रभाव के प्रती एक रिपोर्ट तैयार की जाये । मध्ययुग में यह बात नोट की गई कि पश्चिम के कुछ ईसाई लेखक इस्लाम की छवी को कई पक्षों से विरूपण किया है, मगर पिछली सदी में वैज्ञानिकों के प्रयास के द्वारा पश्चीमी लोगों के दिमाग़ में इस्लाम की छवी कुछ अच्छी होने लगी। अरब और मुसलमानों के साथ अच्छे संबन्ध होने के कारण मुसलमानों की ओर से हम पर होने वाले एहसान को हमें मानना चाहीये। अगर हम इस एहसान को इनकार करने का प्रयास करें तो यह खुले घमण्ड का संकेत है ।

इस्लामी सभ्यता ने मानव कि दृष्टि को सम्मान दिया। किसी भी समय जात रंग या भाषा के आधार पर मानवता के बीच कभी कोई अंतर नही रखा। बल्कि सारी मानवता ने एक ही व्यवहार और एक ही समान के अधिकार इसमें पायी। इस्लामिक सभ्यता ने मानवीय समूह के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। इस प्रकार कि रिशते-नाते के आधार पर चलनेवाली परंपराओं को सिद्धांत और विचार में संयुक्त समूह की विधि से बदल दिया। जिसका सामाजिक संबन्ध भाई-चारगी और सम्मानता पर आधारित है।

www.aroadtohappiness.com

मरमाडु कब्कसोल

ब्रिटीष आलोचक
संसार की आत्मा हत्या
पूर्व काल से अधिक आज कल पश्चिम को इस्लाम की आवश्यकता है, ताकि जीवन को एक लक्ष्य और इतीहास को महत्व मिले, यहाँ तक कि ज्ञान को ईमान से अलग रखने के प्रति पश्चिम के विचार बदल जाये। निश्चय इस्लाम ज्ञान और ईमान के बीच कोई रूकावट नही रखता है, इसके विपरीत इस्लाम इन दोनों को संपूर्ण एकाई समझता है, जो एक दूसरे से अलग नही हो सकते। इसी प्रकार से इस्लाम में यह शक्ती है कि वह उन पश्चीमी समुदायों में जीवन कि किरण फिर से ज़िंदा करदे, जो संसार को आत्महत्या की ओर लेजाने वाले व्यक्तिगत विकास से प्रभावित है ।

इस्लाम कि दृष्टि में सभ्यता का सबसे पहला लक्ष्य सुख, शांति की उपलब्धी। सर्वश्रेष्ठ समाज की स्थापना। मानवता को अच्छाइयों से प्रसन्न करना। और बुराई के हर कारण का विरोध करना है। इस प्रकार कि विभिन्न आधुनिक साधनों द्वारा सभ्यता की उन्नति स्वयं कोई लक्ष्य नही है। बल्कि उच्च सभ्यता का लक्ष्य मान्सिक प्रसन्नता और मानव के लिए सम्मानता के द्वारा भावात्मक सुख की उपलब्धी है। साथ साथ समाज और राष्ट्र के लिए विकास और शांति का प्रधान है। जिसका कारण हर भलाई और लाभदायक विषयों तक पहुँचना, नष्टदायक और बुरी बातों से दूर रहना है।

उस आधुनिक सभ्यता के विपरीत जो दुख और व्याकुल, मानवता को भौतिक पथभ्रष्ट में डालने, मानवीय उच्च आचार जैसे धर्म और नैतिकता से दूर रखने और लोगों का ऐसे मानवीय क्षेत्रों में परिवर्तन करना है, जिस में आत्मा नही और जिसमें बलवान निर्बल पर अत्याचार करता है।

  - प्रसन्नता के प्रति होने वाले वाद-विवाद से संबंधित विषय
  - उपन्यास से संबंधित विषय
  - पुस्तकों से संबंधित विषय
  - विडियो से संबंधित विषय
मार्ग अनेक है और ईशवर एक है