face
   

हमें किस धर्म की आवश्यकता है?

हमें किस धर्म की आवश्यकता है?

हमें किस धर्म की आवश्यकता है?

नैतिक धर्म

यह है कि धर्म अच्छे चरित्र और अच्छे कार्य का संदेश दे। ईश्वर ने कहा कहो कि (लोगो!) आओ मैं तुम्हें वे चीज़े पढ़ कर सुनाऊ जो तुम्हारे परवरदिगार ने तुम पर हराम कर दी हं. (उन के बारे में उस ने इस तरह इर्शाद फ़रमाया है) कि किसी चीज़ को खुदा का शरीक न बनाना और मां-बाप से (बद-सुलूकी न करना, बल्कि) सुलूक करते रहना और नादारी (के ख़तरे) से अपनी औलाद को क़त्ल न करना, क्योंकि तुम को और उन को हमी रोज़ी देते है और बे-हयाई के काम ज़ाहिर हो या छिपे हुए, उन के पास न फटकना। और किसी जान (वाले) को जिस के क़त्ल को खुदा ने हराम कर दिया है, क़त्ल न करना, मगर जायज़ तौर पर (यानी) जिस का शरीअत हुक्म दे। इन बातों की वह तुम्हें ताकीद फ़रमाता है, ताकि तुम समझो। और यतीम के माल के पास भी न जाना, मगर ऐसे तरीक़े से कि बहुत पसंदीदा हो, यहाँ तक कि वह जवानी को पहुंच जाए और नाप और तौल इंसाफ़ के साथ पूरी-पूरी किया करो। हम किसी को तक्लीफ़ नहीं देते, मगर उस की ताक़त के मुताबिक और जब (किसी के बारे में) कोई बात कहो, तो इंसाफ से कहो, वह (तुम्हारा) रिश्तेदार ही हो और खुदा के अह्द को पूरा करो। इन बातों का खुदा तुम्हें हुक्म देता है, ताकि तुम नसीहत करो। और यह कि मेरा सीधा रास्ता यही है, तो तुम उसी पर चलना और रास्तों पर न चलना कि (उन पर चल कर) खुदा के रास्ते से अलग हो जाओगे। इन बातों का खुदा तुम्हें हुक्म देता है, ताकि तुम परहेज़गार बनो। (अल अनआम, 151- 153)

ईश्वर ने कहा खुदा तुम को इंसाफ और एहसान करने और रिश्तेदारों को (खर्च से मदद) देने का हुक्म देता है और बे-हयाई और ना-माक़ूल कामों से और सर-कशी से मना करता है (और) तुम्हें नसीहत करता है, ताकि तुम याद रखो।(अल न्ह्ल, 90)

www.aroadtohappiness.com

थोल

डेन मार्क प्राच्य विद्या विशारद
वास्तविक बनो
जीवन में यथार्थवादी दृष्टिकोण रखना, सच्ची सलाह देना अच्छे व्यवहार और दया की ओर जनता को बुलाना, और अच्छे और गहरे मानवतावाद का प्रचार करना। यह चीज़े और इसके अतिरिक्त बहुतसी वह चीज़े हैं जो मेरी दृष्टी में इसलाम धरम के सच्चे होने का सबसे बडा प्रमाण है।

निश्चिच रुप से यह बात ग़लत है कि कोई धर्म झूठ या हत्या या अन्याय या बलात्कार या माता-पिता के प्रति दुव्यवहार करने या इस जैसी दूसरी बातों का संदेश दे।

नियमबद्ध धर्म

यह है कि धर्म मनुष्य का ईश्वर के साथ, और मनुष्य का अपने दूसरे भाइय़ों के साथ संबंध विनियमन करे। ईश्वर ने कहा जिन चीज़ों को तुम खुदा के सिवा पूजते हो, वे सिर्फ नाम हैं, जो तुम ने और तुम्हारे बाप-दादा ने रख लिए हैं। खुदा ने उन की कोई सनद नाज़िल नहीं की। (सुन रखो कि) खुदा के सिवा किसी की हुकूमत नहीं है। उस ने इर्शाद फ़रमाया है कि उस के सिवा किसी की इबादत न करो। यही सीधा दीन है, लेकिन अक्सर लोग नहीं जानते।(युसुफ, 40)

www.aroadtohappiness.com

एरनिस्थ मंगवाई

अमेरिकन लेखक
चरित्र सुकून है
मेरी जानकारी के अनुसार नैतिक अधिनियम वह है जिसके संपन्न हçzने के बाद आंतरिक सुकून प्राप्त हो। और अनैतिक अधिनियम वह है जिसके संपन्न होने के बाद आंतरिक बेचैनी प्राप्त हो।

परन्तु धर्म का प्रजापति की ओर मनुष्य के कर्तव्य, और इसी प्रकार से मनुष्य के आपसी संबंधों को विनियमन करना आवश्यक है। ईश्वर ने कहा और खुदा ही की इबादत करो और उसके साथ किसी चीज़ को शरीक न बनाओ और माँ-बाप क़राबत वालों और यतीमों और मुँहताज़ों और (रश्तेदार पड़ोसियों और अजनबी पड़ोसियों और पहलू के साथियों (यानी पास बैठने वालों) और मुसाफ़िरों और जो लोग तुम्हारे क़ब्जे में हों सब के साथ एहसान करो। (अल निसा, 36)

मानवीय सम्मान का धर्म

यह है कि वह धर्म मनुष्य को सम्मान दे, और अपने भक्तों के बीच जाति या रंग या जन जाति के कारण अंतर न करे। परन्तु मानवता में श्रेष्ठवान होने का महत्वपूर्ण मानक मनुष्य के अपने कार्य और उसके अंतर्गत ईश्वर के प्रति भय होना है। ईश्वर ने कहा और हम ने बनी आदम को इज्ज़त बख्शी और उन को जंगल और दरिया में सवारी दी।(अल इसरा, 36)

ईश्वर ने यह भी कहालोगों! हम ने तुम को एक मर्द और एक औरत से पैदा किया और तुम्हारी क़ौम और क़बीलें बनाये, ताकि एक-दूसरे की पहचान करो (और) खुदा के नज़दीक तुम मे ज्यादा इज्ज़त वाला वह है, जो ज्यादा परहेज़गार है। बेशक खुदा सब कुछ जानने वाला (और) सब से ख़बरदार है।(अल हुजुरात, 36)

www.aroadtohappiness.com

जोसेफ शाखत

जर्मनी प्राच्य विद्या विशारद
अदभुत विरासत
इसलाम धर्म ने जो सबसे महत्वपूर्ण चीज इस सभ्य समाज को दी है, वह इसलाम के धार्मिक नियम है जिसका नाम शरियत है। वास्तविकता से इसलामी शरियत अपने-आपमे एक अनमोल चीज़ है और वह ऐसे ईश्वरीय आदेशों का विवरण है, जो मुसलमान के जीवन के हर पहलू को सवारता है। यह शरियत धार्मिक प्रार्थनायें, और धार्मिक संस्कार से संबंधित आदेश पर निहित है। इसी प्रकार राजनैतिक और न्याय संबंधित आदेशों को शामिल हैं।

आठवाः यह है कि वह धर्म किसि ऐसे सीधे पथ की ओर राह दिखाये जिसमे ताने-बाने न हो, वह मानवता के लिए चिकित्सा का कारण हो, और उनके लिए पथ निर्देशक और प्रकाशवान हो। ईश्वर ने जिन्न (भूत-प्रेत) के बारे मे यह ख़बर दी कि जब वे ख़ुरआन सुने तो आपस में एक दूसरे से कहने लगे। कहने लगे कि ऐ क़ौम! हमने एक किताब सुनी है, जो मूसा के बाद नाज़िल हुई है, जो (किताबे) इस से पहले (नाज़िल हुई) हैं, उन की तस्दीक करती है (और) सच्चा (दीन) और सीधा रास्ता बताती है।(अल अह्खाफ, 30)

www.aroadtohappiness.com

अरस्तू

यूनानी दार्शनिक
असमानता
असमानता के ना होने का सबसे तुच्च सुबूत असमानित चीज़ों में समानता के लिए प्रयास करना

ईश्वर ने कहा और हम क़ुरआन (के ज़रिए) से वह चीज़ नाज़िल करते हैं, जो मोमिनों के लिए शिफ़ा और रहमत है और ज़ालिमों के हक़ में तो इस से नुक्सान ही बढ़ता है। (अल इसरा, 82)

ख़ुरआन एक आकाश और पथ निर्देशक है, जो मानवता को अज्ञान और त्रटि के अंधकारी से निकाल कर जीवन और भविष्य जीवन में प्रसन्नता और आज्ञाकारिता के प्रकाशवान की ओर ले जाता है। ईश्वर ने कहा ऐ अहले किताब! तुम्हारे पास हमारे (आख़िरी) पैग़म्बर आ गये है कि जो कुछ तुम (खुदा की) किताब में छिपाते थे, वह इस में से बहुत कुछ तुम्हें खोल-खोल कर बता देते हैं और तुम्हारे बहुत-से क़ुसुर माफ़ कर देते हैं। बेशक तुम्हारे पास खुदा की तरफ़ से नूर और रोशन किताब आ चुकी है।(अल माइदा, 36)

www.aroadtohappiness.com

डेल कार्नेजी

अमेरिकन लेखक
अल्लाह से सहायता अनुरोध करो
इस बात का संदेह है कि मानसिक बीमारियों से पीढ़ित हो रहे हज़रों लोगों को सुरक्षित रखा जा सकता है जब कि वह लोग अल्लाह कि कृपा से सहायता प्राप्त करें। बजाय इसके कि वह लोग बगैर किसी समर्थन और बैगैर किसी सहायकार के जीवन की लडाई लडें।

ईश्वर ने कहा दीने इस्लाम में ज़बरदस्ती नहीं है। हिदायत (साफ़ तौर पर ज़ाहिर और) गुमराही से अलग हो चुकी है, तो जो शख्स बातों से एतक़ाद न रखे और खुदा पर ईमान लाये. उस ने ऐसी मज़बूत रस्सी हाथ में पकड़ ली है जो कभी टूटने वाली नहीं और खुदा (सबकुछ) सुनता और (सब कुछ) जानता है। जो लोग ईमान लाये हैं, उनका दोस्त खुदा है कि उन को अंधेरे से निकाल कर रोशनी में ले जाता है और जो काफ़िर है उन के दोस्त शैतान हैं कि उन को रोशनी से निकाल कर अंधेरे में ले जाते हैं। यही लोग दोज़खी हैं कि उस में हमेशा रहेंगे।(अल-बख़रा, 36)

  - प्रसन्नता के प्रति होने वाले वाद-विवाद से संबंधित विषय
  - उपन्यास से संबंधित विषय
  - पुस्तकों से संबंधित विषय
  - विडियो से संबंधित विषय
प्रसन्नता हम से बहुत ज्यादा निकट है।